हिंदी शायरी दो लाइन-hindee shaayaree do lain


तुम पूछ लेना सुबह से, न यकीन हो तो शाम से

ये दिल धड़कता है आपके ही नाम से।


मैं जबान हूँ पर मेरी अल्फ़ाज़ तुम हो,

और मैं तब हूँ जब मेरे साथ तुम हो

Related posts

Leave a Comment