Sad Poetry in Hindi

Sad Poetry in Hindi


यह बहुत अंदर तक कहर ढाता है आँखों से आँसू नहीं बह सकते


उन लोगों के पास क्या है जिनके खुद के बछड़े शांति से हैं? उनकी आंखों में नींद नहीं है, केवल आंसू हैं


उसके पास हर परिस्थिति में हंसने का हुनर ​​था अगर वे रोने लगें तो कुछ तो होगा


मुझे रोना मत चुप रहने वाला कोई नहीं है


कुछ याद करते ही मेरी आंखों में आंसू आ गए थोड़ी देर बाद हम उसकी गली से गुजरे


सूरज चमकता नहीं है अन्यथा, हम अपनी छाया को गले लगाते और रोते

Related posts

Leave a Comment