tareef shayari love in hindi


*वह बार-बार आँचल के साथ अपने आप को ढँक रही थी क्या रात कभी चाँद की खूबसूरती को छुपा सकती है?


*दूसरों की नजर में आप कुछ भी थे लेकिन मेरी नजर में आप किसी अप्सरा से कम नहीं थीं


*आपके बाल इस तरह से चेहरे पर बिखर रहे थे सूरज उगता और अस्त होता रहा


*ओह तुम कितनी खूबसूरत हो काश, तुम भी धूल हो


*काश वे इतने वफादार होते सभी लोग सुंदर हैं

Related posts

Leave a Comment